Skip to main content

#NationalAcademicDepository से अब आप कहीं भी कभी भी अपने अवार्ड्स, डिग्री, सर्टिफिकेट, अपने आधार से या NAD ID से अक्स्से कर पाएंगे

 #NationalAcademicDepository से अब आप कहीं भी कभी भी अपने अवार्ड्स, डिग्री, सर्टिफिकेट, अपने आधार से या NAD ID से अक्स्से कर पाएंगे

आयुष वि. वि. छात्रसंघ की सबसे बड़ी मांग भारत सरकर द्वारा पूरी कर दी गयी है, आयुष वि. वि. छात्रसंघ के कार्यकारणी कार्यकर्ता एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् द्वारा उठाया गया था... #Latepost #AUSUCG #ABVP #NAD
आयुष वि. वि. छात्रसंघ द्वारा छात्रसंघ चुनाव 2015 के बाद मान. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को ( पत्र क्रमांक - अध्यक्ष 2015-16/32A/आविछासं/फि/) एवं यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन को (पत्र क्रमांक - अध्यक्ष 2015-16/32B/आविछासं/फि) से अपनी बात बतौर सुझाव और मांग विवि के कार्यों एवं सभी डिग्री प्रमाण पत्रों को ऑनलाइन करने और प्रशासनिक कर्यरों में होने वाली देरी के कारन विद्यार्थियों को होने वाली परेशानी से भी अवगत कराया गया था , बाद में
2016-17 सत्र में छात्र संसद और युवा निति कार्यक्रम में आयुष वि. वि. छात्रसंघ के कार्यकारणी कार्यकर्ता एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् द्वारा उठाया गया था जिसका परिणाम मई 2017 को लिखित आश्वासन के रूप में मिला था और आज क्रियान्वित हुआ है #NationalAcademicDepository
इस विषय में प्रत्यक्ष ( डॉ रवि शुक्ला सर , अंजलि कोर्राम , डॉ उत्कर्ष त्रिवेदी , डॉ प्रविश, यमंक साहू, डॉ ज्योत्स्ना,, गणेश वर्मा सर डॉ अंकित शर्मा , डॉ दिव्यगुंजन साहू , योगेश्वर,डॉ सौरभ प्रभात, शिस्पाल जी, डॉ यशवंत ) एवं अप्रत्यक्ष लगे हुए सभी का बहुत बहुत धन्यवाद और आभार

Comments

Popular posts from this blog

आयुष विश्वविद्यालय में ये कहावत हो गई सच 'आप लिखे खुदा बांचे' वार्षिक परीक्षा में बंटे हस्त लिखित पेपर..

आयुष विश्वविद्यालय में ये कहावत हो गई सच 'आप लिखे खुदा बांचे' वार्षिक परीक्षा में बंटे हस्त लिखित पेपर..Published: by Supers Administratorरायपुर : अभी हाल ही में 12वी परीक्षा पेपर लीक का मामला थमा नहीं की उससे मिलता जुलता मामला रायपुर के आयुष विश्वविद्यालय में देखने को मिला जिसमें  3rd सेमेस्टर बीएएमएस  के छात्रों को हस्त लिखित पेपर बांट दिया गया और हैरान कर देने वाली बात यह है की यह कोई आन्तरिक परीक्षा नहीं बल्कि वार्षिक परीक्षा थी जिसमें विश्वविद्यालय दवारा यह कार्य किया गया. हस्त लिखित पेपर की वजह से छात्र पूरे 3 घंटे परेशान हुए लेकिन विश्वविद्यालय दवारा कोई कार्यवाही नहीं की गई.इस विषय पर INH न्यूज़ संवाददाता ने कुलपति से प्रश्न किया जिसके जवाब में भडके कुलपति ने यह कह दिया हम जवाब देने के लिए बाध्य नहीं है ये पूरा मामला राजधानी के आयुष विवि का है..दरसअल अभी प्रदेश के विभिन्न आयुर्वेदिक कॉलेजो में छात्रों के वार्षिक परीक्षाए चल रही है..इसी कड़ी में बीएएमएस के 3rd सेमेस्टर के छात्रों को उस वक्त परेशानियों का सामना करना पड़ा जब उन्हें रोग निदान विषय का पर्चा हाथों से लिखा हुआ म…

आयुष विश्वविद्यालय छात्रसंघ (AUSUCG) के तत्वाधान में छःग के एकमात्र चिकित्सा विश्वविद्यालय में व्याप्त समस्याओ एवम् अनियमितताओ को लेकर कड़ा प्रदर्शन + प्रेस विज्ञप्ति

प्रेस विज्ञप्ति  
                                           आज दिनांक 16/11/2016 दिन बुधवार को अखिल भारतीय विधार्थी परिषद् (ABVP) एवम् आयुष विश्वविद्यालय छात्रसंघ (AUSUCG) के तत्वाधान में छःग के एकमात्र चिकित्सा  विश्वविद्यालय में व्याप्त समस्याओ एवम् अनियमितताओ को लेकर  कड़ी प्रदर्शन किया जिसमे छात्रो का प्रमुख् मांग निम्न रहा  -B.A. M.S अंतिम वर्ष का परीक्षा परिणाम अतिशीघ्र जारी करने का आवाहन किया विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा परिणाम के लेटलतीफ के चलते BAMS अंतिम वर्ष के विध्यार्थी अपनी PrePG की परीक्षा के लिए अपात्र होंगें छात्रों की मांग थी की Bams अंतिम वर्ष का परिक्षा परिणाम अगले दो दिवस में जारि किया जाये ताकि विद्यार्थी PrePG परिक्षा के लिए पात्र हों
विभिन्न संकायों आयुर्वेद, होमियोपैथिक , फिजियोथेरेपी , नर्सिंग एवं MBBS के नियमित परीक्षाओं का पुनर्मूल्यांकण एवं पुनर्गणना तथा पूरक परीक्षा के परिणाम में भी चल रहे विलंब के लिए छात्रों ने उग्र प्रदर्शन किया और इसके परिणाम 4-5 दिनों में जारी करने को कहा विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों को कुलपति से नही मिला सकते का हवाला देकर लौ…

A big congratulations to mbbs doctors willing to work in #rural/#difficultarea .. Thanks to adv. #Rahul tamaskar and adv #Madhunisha singh mam for fighting for the rights of doctors

A big congratulations to mbbs doctors willing to work in #rural/#difficultarea .. Thanks to adv. #Rahul tamaskar and adv #Madhunisha singh mam for fighting for the rights of doctors