Skip to main content

स्मार्ट कार्ड में फर्जीवाड़ा करने वाले कुछ चिकित्सको की सजा आम जनता को

सरकार का ये फैसला बेतुका और जल्दबाजी में लिया गया लग रहा है । ऐसा प्रतीत हो रहा है जैसे भ्रष्ट अधिकारियों एवं एवं स्मार्ट कार्ड में फर्जीवाड़ा करने वाले कुछ चिकित्सको की सजा आम जनता को मिल रही है । अभी रायपुर के एक दंत चिकित्सक द्वारा फ़र्ज़ी इलाज का मामला सामने आया था जिसकी वजह से इस लूट खसोट की पोल खुली थी लेकिन ये भी सोचने वाली बात है कि बिना अधिकारियों की मिलीभगत के इतने दिनों तक फर्ज़ीवाड़ा नही किया जा सकता है । सरकार को इस पूरे प्रकरण में अधिकारियों की भूमिका की भी जांच करनी चाहिए ।
इस फैसले से आम जन मानस पे क्या प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में सोचना चाहिए था । अगर इस प्रकार का फैसला लागू ही करना है तो सर्वप्रथम सरकार को हर PHC में दंत चिकित्सक की बहाली करनी चाहिए और सभी अस्पतालों को दंत चिकित्सा से जुड़े अत्याधुनिक उपकरण से युक्त करना चाहिए । इतने बड़े राज्य में सिर्फ एक शासकीय दंत चिकित्सा महाविद्यालय है उसमे भी पीजी की पढ़ाई की सुविधा नही है और डॉ अम्बेडकर अस्पताल में गिनती के दंत चिकित्सक हैं , अब आप ही बताइए कि गरीब जनता के लिए ये कितनी परेशानी की बात है कि इतनी दूर जा के अपना इलाज करवाये । इसलिए या तो सरकार सभी जगह दंत चिकित्सा की समुचित व्यवस्था उपलब्ध करवाए नही तो इस आदेश को वापस ले और साथ ही आगे से कोई फर्ज़ीवाड़ा न हो इसके लिए समुचित व्यवस्था करे ।
सौरभ कुमार प्रभात
छात्रसंघ अध्यक्ष
पं दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय






#drramansingh #ayushunivercity #ausucg #studentunion
Sauravkumarprabhat 
FACEBOOK - AYUSH University Student Union AUSUCG 
Twitter - @ausucg_official 

Instagram - ausucg_official

Popular posts from this blog

आयुष विश्वविद्यालय में ये कहावत हो गई सच 'आप लिखे खुदा बांचे' वार्षिक परीक्षा में बंटे हस्त लिखित पेपर..

आयुष विश्वविद्यालय में ये कहावत हो गई सच 'आप लिखे खुदा बांचे' वार्षिक परीक्षा में बंटे हस्त लिखित पेपर..Published: by Supers Administratorरायपुर : अभी हाल ही में 12वी परीक्षा पेपर लीक का मामला थमा नहीं की उससे मिलता जुलता मामला रायपुर के आयुष विश्वविद्यालय में देखने को मिला जिसमें  3rd सेमेस्टर बीएएमएस  के छात्रों को हस्त लिखित पेपर बांट दिया गया और हैरान कर देने वाली बात यह है की यह कोई आन्तरिक परीक्षा नहीं बल्कि वार्षिक परीक्षा थी जिसमें विश्वविद्यालय दवारा यह कार्य किया गया. हस्त लिखित पेपर की वजह से छात्र पूरे 3 घंटे परेशान हुए लेकिन विश्वविद्यालय दवारा कोई कार्यवाही नहीं की गई.इस विषय पर INH न्यूज़ संवाददाता ने कुलपति से प्रश्न किया जिसके जवाब में भडके कुलपति ने यह कह दिया हम जवाब देने के लिए बाध्य नहीं है ये पूरा मामला राजधानी के आयुष विवि का है..दरसअल अभी प्रदेश के विभिन्न आयुर्वेदिक कॉलेजो में छात्रों के वार्षिक परीक्षाए चल रही है..इसी कड़ी में बीएएमएस के 3rd सेमेस्टर के छात्रों को उस वक्त परेशानियों का सामना करना पड़ा जब उन्हें रोग निदान विषय का पर्चा हाथों से लिखा हुआ म…

#NationalAcademicDepository से अब आप कहीं भी कभी भी अपने अवार्ड्स, डिग्री, सर्टिफिकेट, अपने आधार से या NAD ID से अक्स्से कर पाएंगे

#NationalAcademicDepository से अब आप कहीं भी कभी भी अपने अवार्ड्स, डिग्री, सर्टिफिकेट, अपने आधार से या NAD ID से अक्स्से कर पाएंगे

आयुष वि. वि. छात्रसंघ की सबसे बड़ी मांग भारत सरकर द्वारा पूरी कर दी गयी है, आयुष वि. वि. छात्रसंघ के कार्यकारणी कार्यकर्ता एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् द्वारा उठाया गया था... #Latepost#AUSUCG#ABVP#NAD आयुष वि. वि. छात्रसंघ द्वारा छात्रसंघ चुनाव 2015 के बाद मान. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को ( पत्र क्रमांक - अध्यक्ष 2015-16/32A/आविछासं/फि/) एवं यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन को (पत्र क्रमांक - अध्यक्ष 2015-16/32B/आविछासं/फि) से अपनी बात बतौर सुझाव और मांग विवि के कार्यों एवं सभी डिग्री प्रमाण पत्रों को ऑनलाइन करने और प्रशासनिक कर्यरों में होने वाली देरी के कारन विद्यार्थियों को होने वाली परेशानी से भी अवगत कराया गया था , बाद में 2016-17 सत्र में छात्र संसद और युवा निति कार्यक्रम में आयुष वि. वि. छात्रसंघ के कार्यकारणी कार्यकर्ता एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् द्वारा उठाया गया था जिसका परिणाम मई 2017 को लिखित आश्वासन के रूप में मिला था और आज क्रियान्वि…

आयुष विश्विद्यालय छात्रसंघ परिवार की ओर से आप सबको मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएँ और बधाई

आयुष विश्विद्यालय छात्रसंघ परिवार की ओर से आप सबको मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएँ और बधाई